(Java)Object-Oriented Programming Kya Hai? (OOPs Concepts in Java in Hindi)

OOP का full form है Object-Oriented Programming.

ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग क्या है? – ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग real world की समस्या को हल करने का Programming तरीका/प्रकार है। इसमे object बनाये जाते है और उस में data और methods होते है।

ज्यादातर नये प्रोग्रामर इसे एक programming language समझते हैं। लेकिन यहां पर मैं आपको बता दूं कि OOPs एक programming language नहीं है। यह प्रोग्रामींग करने का एक तरीका है।

Programming में प्रोग्राम करने के दो तरीके हैं। पहला Procedure Oriented Programming और दूसरा Object Oriented Programming

जिसमें से आज हम java में object oriented programming के बारे में जान रहे हैं। Java लैंग्वेज के बारे में बताते हुए हमने एक पोस्ट लिखा है जिसे आप यहा से पढ़ सकते हो Java क्या है? History of java in Hindi

DRY क्या है?

ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग में DRY एक principal है। जिसका मतलब (don’t repeat yourself) रिपीट रिपीट लिखे जाने वाले code को कम कर दो।

आप OOP में रिपीट होने वाले code को कम करने के लिए उसे एक जगह लिखकर उसका बार बार reuse कर सकते हो। इससे प्रोग्राम की length कम होती है। इसेही DRY Principal कहा जाता है।

ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग के फायदे क्या है?

  1. OOPs में real system को real objects के द्वारा program में represent करना आसान है।
  2. Inheritance की मदद से हम पहले से बने class को नया class बनाने के लिए reuse कर सकते हैं। मतलब हम code की length को कम कर सकते हैं। जिससे समय और programming cost भी बचता है।
  3. बड़ी समस्या को object oriented programming से solve करना आसान है।
  4. Polymorphism की मदद से हम सेम function और सेम operator को अलग-अलग काम के लिए उपयोग में ला सकते हैं। इससे software complexity आसान होती है।
  5. Abstraction इस concept की मदद से सिर्फ आवश्यक डेटा प्रदान किया जायेगा और बाकि डेटा को छुपाया जा सकता है। इससे डेटा की सुरक्षा बनी रहेगी।
  6. OOPs में Objects होते है जिसके बेसिस पर टीम में काम को बाटा जा सकता है।

ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग एवं प्रोसीजर ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग में क्या अंतर है?

प्रोसीजर ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग में data की जगह ज्यादा फोकस function और procedures पर होता है। इसमें program task को function की मदद से sequence में लिखा जाता है।

वही, ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग में objects बनाए जाते हैं। जिसमें data और methods दोनों शामिल होते हैं।

(OOP) Object-Oriented Programming(POP) Procedural Oriented Programming
1. OOP Object Oriented है।1. POP Structure Oriented है।
2. हर Object में data को खुदसे control किया जाता है।2. हर function का अलग अलग data होता है तो control करना मुस्किल होता है।
3. इसमे पहले लिखे हुए code को दुबारा लिखे बिना reuse कर सकते हो।3. पहले लिखे हुए code को दुबारा बिना लिखे reuseनहीं कर सकते।
4. बड़ी समस्या को हल करने के लिए उपयोगी।4. बड़ी समस्या को हल करने के लिए उपयोगी नहीं है।
5. C++, Java, VB, .NET, C#,.NET5. C, VB, PORTRAN, Pascal

Class and Object in java in hindi

OOP में class और object सबसे महत्वपूर्ण concepts है।

Class in java in hindi

class यह एक user defined data type है। Class के body में data और code शामिल किया जाता है। जिसे object की मदद से use किया जाता है। एक class के कई objects बनाए जा सकते हैं। हम ऐसे कह सकते हैं कि एक ही प्रकार के object का collection मतलब class है। उदाहरण class – car है तो objects – Toyota, Tata, Ford होंगे।

java में class बनाने के लिए “class” keyword का उपयोग करना होता है।

ध्यान रखिये की java में class का नाम ही file नाम होना चाहिए। और class का नाम हमेशा Uppercase से सुरु होता है।

Main” नाम का class है जिसमे variable x है। (Main.java)

 public class Main{
 int x = 9;
 }

Object in java in hindi

object को class का instance कहा जाता है। Object, real object ( person, clock, place, etc.) को represent करता है। Object Class में लिखे हुए data को function की मदद से execute करता है।

यहापर हम उपर के “Main” नाम के class के लिए myObject नाम का object बनाते है। जिससे आपको भी object बनाना समज आ जायेगा।

 public class Main{
 int x = 9;
 
 public static void main(String[] args)
 Main myObject = new Main();// Object
 System.out.println(myObject.x);
  }
 }

एक class के कई object बनाये जा सकते है।

Features of Object Oriented programming in Hindi

Abstraction – data abstraction की process में यूजर से कुछ details छुपाए जाते हैं और कुछ ही जरूरी information दिखाई जाती है। इस process को abstraction classes के द्वारा किया जाता है।

Encapsulation – encapsulation में यूजर से sensitive data छुपाया जाता है। इसकी मदद से security मजबूत बनती है।

Inheritance – इसमें class के attributes और methods को एक class से दूसरे class में यूज़ किया जाता है।

Polymorphism – polymorphism की मदद से inheritance class के methods अलग-अलग task कर सकते हैं।

आखिर में..

मुझे उम्मीद है आपको हमारी Object-Oriented Programming Kya Hai यह पोस्ट समज आयी होगी। हमने यहापर OOPs के बारेमे सभी जानकारी देनेकी कोशिश की है, लेकिन फिरभी आपका कोई सवाल है तो comment में लिखो जिसका मैं जवाब देनेकी कोशिश करूँगा। मेरी यह आशा है आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करेंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *