IP Address Kya Hai – IP Address प्रकार (Private, Public, Static, Dynamic)

IP Address Kya Hai

IP address का उपयोग इंटरनेट यूज करने वाले डिवाइस को यूनिक पहचान दिलाने के लिए किया जाता है। उदाहरण – 4 मोबाइल के 4 यूनिक IP address होते हैं। इस तरह से इंटरनेट यूज करने वाले हर फिजिकल डिवाइस को एक यूनिक IP address से असाइन किया जाता है, जिसने मोबाइल्स, कंप्यूटर, टेबलेट यह डिवाइस आते है।

IP address Kya Hai – What IP Address in Hindi

IP address का फुल फॉर्म है: internet protocol, यह एक नंबर की स्ट्रिंग होती है। यही स्टिंग इंटरनेट पर मौजूद हर डिवाइस को असाइन की जाती है।

IP address के वर्जन है: IPv4 मतलब internet protocol version 4 और IPv6 मतलब internet protocol version 6.

IPv4 – IPv4, x.x.x.x इस तरह दिखता है। जिसमें हर x एक octet को रिप्रेजेंट करता है। यहापर 4 octets है। एक octet का मतलब 8-bits होता है और 8-bits की सबसे बड़ी वैल्यू 255 होती है।

इस तरह से IPv4 address की रेंज 0.0.0.0 से 255.255.255.255 होती है IPv4 32-bits long (8×4) होता है।

आज के समय में इंटरनेट पर बात करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज का होना बहुत जरूरी है ऐसे में हर डिवाइस को एक IP address दिया जाता है।

दुनिया कितनी जल्द बदल रही है, हर इंसान मोबाइल का यूज कर रहा है। तो एक समय आएगा की सभी IP addresses खत्म हो जाएंगे क्योंकि इनकी संख्या (4.3 बिलियन) लिमिटेड है।

हमें और IP address जरूरत है, यह समज ने के बाद lPv6 को डिजाइन किया गया। जैसा की हमने ऊपर बताया है की यह एक version है।

IPv6 – यह 128-bit long है। इसमें 4 hexadecimal के 8 groups है। हर group को colon(:) से अलग किया जाता है। IPv6 का उदाहरण – 2006:odb8:35a3:0000:0000:3ale:0570:7324:

इन IP address को Internet Assigned Numbers Authority (IANA) के द्वारा प्रोड्यूस और अलॉकेट किया जाता है। यह Internet Corporation for Assigned Names and Numbers (ICANN) एक Non-profit organisation है जिसे 1998 में इंटरनेट की सिक्योरिटी के लिए बनाया गया था।

IP Address के प्रकार – Types of IP Address in Hindi

IP Addresses के 4 अलग अलग प्रकार है: Private, Public, Static, Dynamic. इसमे private और public नेटवर्क के लोकेशन को दर्शाते है – private को लोकल नेटवर्क में यूज किया जाता है वही public को internet पर यूज किया जाता है। static और dynamic स्थायित्व को दर्शाते है।

1. Private IP address –

Private IP address घर के कंप्यूटर, स्मार्ट टीवी, स्पीकर इनको जोड़ने के लिए किया जाता है। यह IP address सामान्य रूप से network router के द्वारा साइन किए जाते हैं।

Private IP address की रेंज 40.xxx.xxx.xxx से 192.168.xxx.xxx की सीमा में होती है। Private address का उदाहरण है – 192.168.1.1

अपने private IP address को खोजने के लिए अब विंडोज में कमांड प्रॉम्पट पर ipconfig टाइप करो। इसी तरह MAC यूजर्स अपने टर्मिनल में ifconfig कमान्ड टाइप करो।

2. Public IP address –

Public IP address का उपयोग घर के नेटवर्क को इंटरनेट से कनेक्ट करने के लिए किया जाता है। मतलब मोबाइल, लैपटॉप को इंटरनेट से कनेक्ट करने के लिए किया जाता है।

यह IP address, (ISP) internet service provider द्वारा असाइन जाते हैं।

Public IP address को फाइंड करने के लिए आप वेब ब्राउजर में WhatIsMyIp.com पर जाओ। यह आपको आपकी IP address और अन्य जानकारी दिखाएगा।

3. Static IP address –

Static IP address का एड्रेस कभी नहीं बदलता। किसी डिवाइस को एक बार static IP address असाइन किया जाता है तो यह तब तक बना रहता है जब तक उस डिवाइस को डिकमिशन नहीं किया जाता या उसका नेटवर्क आर्किटेक्चर बदल जाता है।

Static IP address को आमतौर पर सर्वर या अन्य महत्वपूर्ण उपकरणों द्वारा उपयोग किया जाता है। Static IP address को ISP द्वारा असाइन किया जाता है।

Static IP address, IPv4 या IPv6 कौन सा भी हो सकता है। हम अभी तो IPv4 address कोई यूज़ करते हैं।

4. Dynamic IP address –

जैसे कि नाम से पता चल रहा है कि यह हमेशा बदलते रहने वाला IP address है। Dynamic address को dynamic host configuration protocol (DHCP) सर्वर द्वारा असाइन किया जाता है।

हम dynamic addresses क्या यूज करते हैं क्योंकि IPv4 द्वारा static IP address को private नहीं किया जाता।

उदाहरण – घर में शायद एक IP address होता है लेकिन घर के अलग-अलग डिवाइस जैसे कि, टीवी, स्पीकर, रेफ्रिजरेटर में dynamic address होते हैं।

इंटरनेट पर आपके घर को आपके ISP के DTCP सर्वर द्वारा dynamic IP address साइन किया जा सकता है।

आपके घर के भीतर आपके डिवाइस के लिए dynamic address को नेटवर्क राउटर द्वारा सेंड किया जाता है। जिसमें कंप्यूटर, स्मार्टफोन, टेबलेट शामिल है।

IP Address से क्या क्या कर सकते है

  1. एक्टिविटी को track किया जा सकता है।
  2. डिवाइस को हैक किया जा सकता है।
  3. IP Address को dark web में बेचा जा सकता है।
  4. real-life लोकेशन को पहचाना जा सकता है।

IP Address क्या है से जुड़े FAQ

Q. Google क IP Address क्या है?

Google का IP Address है ”216.58

Q. IP Number क्या होता है?

Internet Protocol (IP) Address एक Numbers का set होता है, जो internet का यूज करने वाले हर डिवाइस को असाइन किया जाता है। यह address हर डिवाइस का अलग होता है। उदाहरण – 192.0.2.1

Q. mera IP Address kya hai?

यदि आपको अपना IP Address जानना है तो आपको browser पर सर्च करना है what is my ip address. ऐसालिखते हो आपके सामने आपका IP Address दिखेगा।

आखिर में..

मुझे लगता है की आजके पोस्ट से आपको बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी मिली है क्योकि यह जानकारी आजके internet युग में बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसके आलावा आपने ip Address kya Hai को पढ़ा है तो शायद आप टेकनिकल बैकग्राउंड से होंगे।

तो हमें comment में जरुर बताओ को आप क्या करते हो।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *