Cyber Security क्या है? इसके प्रकार, थ्रेट, जरुरत, उपाय, करीअर और बहुत कुछ

cyber security kya hai – जैसे हम सबको पता है की आजकल हर चीज ऑनलाइन हो रही है। ऐसे में इंटरनेट के माध्यम से होने वाले साइबर क्राइम्स भी बढ़ चुके हैं।

आए दिन आप न्यूज़ में देखते होंगे कि बड़ी बड़ी कंपनी का डाटा लीक हो रहा है। और यह सभी काम साइबर क्रिमिनल्स के द्वारा किया जाता है। इन साइबरक्रिमिनल्स को हम हैकर भी बुलाते हैं।

यह लोग बड़ी बड़ी कंपनीज के साथ बिजनेसमैन और किसी आम आदमी को भी अपना टारगेट बनाते हैं। यह सब वह पैसों के लिए करते हैं।

ऐसे में बढ़ते इंटरनेट के युग में हमें साइबर क्राइम से बचने के लिए साइबर सिक्योरिटी का ज्ञान लेना बहुत जरूरी है।

cyber-security-kya-hai

साइबर सिक्योरिटी क्या है (cyber security in hindi)

साइबर सिक्योरिटी एक ऐसी स्टडी है जिसने आप इंटरनेट में हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर और डेटा से होने वाले साइबर अटैक से बचना सीख सकते हो।

या

साइबर सुरक्षा में कंप्यूटर, सर्वर, मोबाइल डिवाइस, नेटवर्क, इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम और डेटा को दुर्भावनापूर्ण हमलों से बचाने का अभ्यास होता है।

साबर सुरक्षा की आवश्कता क्यों है?

  • बढ़ते इंटरनेट के कारण सभी चीजें ऑनलाइन हो रही है। ऐसे में साइबर क्रिमिनल से हमारा महत्वपूर्ण डेटा चोरी होने से और उसे नष्ट होने से बचाने के लिए साइबर सिक्योरिटी की आवश्यकता है।
  • इसके माध्यम से हम सभी तरह का डेटा जैसे कि संवेदनशील डेटा, स्वास्थ्य डेटा, व्यक्तिगत डेटा, बौद्धिक संपदा डेटा और सरकारी इंफॉर्मेशन सिस्टम को बचा सकते हैं।
  • आज के समय साधारण फायरवॉल और एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का यूज करके साइबर सिक्योरिटी लेने के दिन गए। साइबर अटैक के तरीके बढ़ चुके हैं। इसलिए अपने कर्मचारी या बच्चों को फिशिंग, रैंसमवेयर हमलों या व्यक्तिगत डेटा चोरी करने के लिए डिजाइन किए गए अन्य मैलवेयर जैसे साधारण घोटालों के बारे में शिक्षित करना जरूरी है।

सायबर सिक्योरिटी के तरीके (Types of cyber security)

1. नेटवर्क सुरक्षा (network security) –

नेटवर्क को घातक हमलों से बचाने की प्रक्रिया।

नेटवर्क सुरक्षा में एक्सेस कंट्रोल, वायरस और एंटी वायरस सॉफ्टवेयर, एप्लीकेशन सुरक्षा, नेटवर्क एनालिटिक्स, नेटवर्क से संबंधित सुरक्षा के प्रकार, फायरवॉल, वीपीएन, इंक्रिप्शन और बहुत कुछ शामिल है।

2. एप्लीकेशन सुरक्षा (Application security) –

प्रोग्राम को सुरक्षित रखने के लिए ऐप्स को निरंतर अपडेट और परीक्षण की आवश्यकता होती है। सिक्योरिटी प्रोसेस में एप्स को सुरक्षित करने के लिए एप्स में लगातार गलतियां ढूंढकर उन्हें सुधारना होता है। ज्यादातर गलतियां एप डेवलपमेंट के समय होती है।

3. डेटा सुरक्षा (Data security) –

नेटवर्क और एप्लीकेशन के अंदर डाटा होता है। कंपनी और ग्राहक की जानकारी को सुरक्षा प्रदान करना यही इसका अहम मकसद है।

5. क्लाउड सुरक्षा Cloud security –

अपनी बड़ी हुई गोपनियता के कारण पिछले एक दशक में क्लाउड आधारित डाटा संग्रहण एक लोकप्रिय विकल्प बन गया है। क्लाउड स्टोरेज को बहुत ज्यादा सुरक्षित माना जाता है। लेकिन फिर भी आपको इसे एक ऐसे सॉफ्टवेयर प्रोग्राम से सुरक्षित रखना चाहिए जो गतिविधियों पर नजर रखता है और आपको क्लाउड खातों के साथ कुछ गलत होने पर सचेत कर सकता है।

सायबर सुरक्षा हमलो के प्रकार (types of cyber security in hindi)

1. मालवेयर (Malware) –

Malware एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जिसे हैकर्स यूजर के कंप्यूटर को खराब और बिगाड़ने के लिए यूज करते हैं। इसे ईमेल और लिंक्स के द्वारा भेजा जाता है।

और लिंक पर क्लिक करने के बाद यह सॉफ्टवेयर यूजर के कंप्यूटर में इंस्टॉल हो जाता है।

Malware के अलग-अलग प्रकार है जिसे हमने आपको नीचे विस्तार से बताया है।

  1. Spyware (स्पायवेयर) – यह प्रोग्राम गुप्त रूप से यूजर के रिकॉर्ड पर नजर रखता है। और इससे हैकर्स आपके महत्वपूर्ण जानकारी का उपयोग करते हैं। उदाहरण – क्रेडिट कार्ड डिटेल को देख सकते हैं।
  2. Virus (वायरस) – यह प्रोग्राम किसी file के साथ जुड़ कर आते हैं। और यह आपके पूरे computer में फैल जाते हैं।
  3. Ransomware (रंसोम्वेयर) – यह Malware यूजर के डाटा को लॉक करता है। और लॉक करने के बाद हैकर डाटा को मिटाने की धमकी देता है। और इसके बदले पैसों की मांग करता है।
  4. Botnets (बॉटनेटस) यह Malware से संक्रमित कंप्यूटरों का नेटवर्क होता है। इसका उपयोग हैकर्स यूजर के अनुमति के बिना ऑनलाइन कार्य करने के लिए करते हैं।

2. SQL injection –

SQL (structural query language) इंजेक्शन एक प्रकार का साइबर हमला है। इसका उपयोग विशेषता डेटाबेस से डाटा को चोरी करने के लिए किया जाता है।

इसमें हैकर्स कमजोर डेटाबेस को टारगेट करते हैं और (SQL) एसक्यूएल इंजेक्शन अटैक को परफॉर्म करते हैं। यह सबसे पुरानी हैकिंग टेक्निक है इसलिए इसको WASP ने अपने टॉप टेन लिस्ट में जगह दी है। यहा एक गाइड है – SQL क्या है? SQL Commands, DDL, DML, DCL, लाभ, इतिहास और बहुत कुछ

3. Phishing –

Phishing सोशल इंजीनियरिंग अटैक का टाइप है। इसे यूज़र के लॉगइन डाटा, क्रेडिट कार्ड नंबर को चोरी करने के लिए उपयोग किया जाता है। इसे करने के लिए है कर अपने आप को एक भरोसेमंद कंपनी के रूप में दिखाते हैं। और यूजर्स से उसकी महत्वपूर्ण जानकारी निकालते हैं।

4. Man-in-the middle attack –

A denial-of- service attack से हैकर्स नेटवर्क और सर्वस को ट्राफिक से भरते हैं। और कंप्यूटर सिस्टम को उनका कार्य करने से रोकते हैं। मतलब यह सिस्टम को अनुपयोगी बना देता है। इसके अलावा संगठनों को महत्वपूर्ण कार्यों को करने से रोकता है।

साइबर हमले से कैसे बचे?

  1. मजबूत पासवर्ड का प्रयोग करो।
  2. अपने सॉफ्टवेयर को अपडेट करते रहो।
  3. अपनी सोशल मीडिया सेटिंग को मैनेज करो।
  4. अपने होम नेटवर्क को मजबूत करो।
  5. असुरक्षित वाईफाई नेटवर्क का इस्तेमाल मत करो।
  6. अपने बच्चों से इंटरनेट के बारे में बात करो।
  7. अज्ञात ईमेल में लिंक पर क्लिक मत करो।

Cyber security Career in Hindi

आज के समय में इंटरनेट का सबसे ज्यादा यूज़ हो रहा है। ऐसे में इस डिजिटल युग में लगभग हर कंपनी को एक पेशेवर सुरक्षा की जरूरत है। साइबर सुरक्षा में करियर बनाने के लिए इससे बेहतर समय नहीं हो सकता। यदि आप साइबर सुरक्षा अभ्यास में कुशल है और आपके पास इस विषय में अनुभव है, तो सभी क्षेत्रों और उद्योग में साइबर सुरक्षा के कई अवसर है।

Cyber Security FAQ Section

Q 1. कौनसा सॉफ्टवेयर साइबर थ्रेट से बचा सकता है?

Cyber protect, Bitdefender, Malwarebytes, AVG Antivirus, VIPRE, Sitelock, SecureMac इन सॉफ्टवेयर की मदद से साइबर थ्रेट से बचा जा सकता है.

Q 2. साइबर सिक्योरिटी के कितने स्तंभ है?

साइबर सुरक्षा के मुख्यत 3 स्तंभ है. 1. People 2. Processes 3. Technology

आखिर में..

मुझे उम्मीद है कि आपको साइबर सिक्योरिटी क्या है इसके बारे में संपूर्ण जानकारी समझ आयी होगी।

जैसे-जैसे इंटरनेट और टेक्नोलॉजी बढ़ती जाएगी वैसे-वैसे साइबर सिक्योरिटी का महत्व बढ़ता ही जाएगा। इसलिए मैं चाहता हूं कि आप इस पोस्ट को सोशल मीडिया और अपने दोस्तों और अपने बच्चों के साथ जरूर शेयर करो।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *